Search This Blog

Tuesday, 17 November 2015

बदलाव

नवंबर २०१५ 

बरसों से उस कमरे की खिड़की खुली थी
दम घोटने वाली दुर्गन्ध से लथपथ
दो कदम की ही तो है दूरी
आज सोचा हाथ बड़ा बंद कर ही दूँ
कुछ खिड़कियां बंद ही अच्छी
वक़्त के साथ बदलाव ज़रूरी है
कमरे की साज सज्जा बदलना भी
कुछ ताज़े फूलों की महक
अपनेपन की मिठास
और ढेर सारी मुस्कराहट


आज सुकून की नींद आएगी
नयी किरण से लिपटी
खिली खिली सुबह खिलखिलाएगी

~ १७/११/२०१५ ~


©Copyright Deeप्ती

1 comment: